कारगर और असरकारक स्वास्थ्य का अधिकार कानून बनाये और इसी सत्र में पारित करवाए सरकार ।

0
219
WhatsApp Image 2023 02 24 at 5.15.33 PM
WhatsApp Image 2023 02 24 at 5.15.33 PM
blob:https://web.whatsapp.com/36c84f3a-b315-4bd0-96f4-ef3b180d1b66

BN बांसवाड़ा न्यूज़ – लम्बे समय से राजस्थान सरकार स्वास्थ्य अधिकार कानून बनाने में अटकी हुई है। निजी अस्पतालों अपने आप को किसी भी कानून से मुक्त हो कर किसी भी प्रकार के रेगुलेशन से मुक्त हो कर कार्य करना चाह रही है। अब सरकार जनता के हित में स्वास्थ्य अधिकार कानून लाना चाह रही है तो बाध्यकारी कानून बनाने में कुछ चिकित्सक समूह और निजी अस्पतालों के मालिक कानून में सुझाव देने की बजाय कानून को लागू करने में रोड़ा बन रही है। निजी अस्पताल प्रबंधक सरकारी योजनाओं का लाभ तो उठाना चाहते हैं, रियायती दर पर भूमि और सहुलियत भी चाहते हैं परन्तु बाध्यकारी कानून से उन्हें परहेज है। निजी स्वास्थ्य संस्थाओं की केवल लाभ के प्रति बढ़ती आसक्ति मानवीय सेवा सरोकारों के प्रति उनके दायित्वबोध को धूमिल कर रही है। वे सरकार पर दबाव बनाकर पहले तो नख और दंतहीन कानून चाहते हैं पर अब तो कानून का ही विरोध कर रहे हैं। राजस्थान नागरिक मंच ने इसकी कड़ी आलोचना करते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से पुनः ज्ञापन देकर सरकार से मांग करता है कि वह वाकई में स्वास्थ्य अधिकार कानून बनाना चाहती है तो उसे कारगर और असरकारी प्रावधानों के साथ बनाए। ये प्रावधान सेवा प्रदान करने में आनाकानी करने वाले को दंडित करने की प्रभावकारी शक्ति से लैस हों। बीमा आधारित निजीकरणवादी तौर तरीके से स्वास्थ्य सेवाओँ को बढ़ावा देने की बजाए शासकीय स्वास्थ्य सेवाओं के पर्याप्त बजटीय आवंटन के जरिए सार्वभौमिक सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवाओं में ढांचागत सुधार कर ग्रामीण क्षेत्रों में हर पँचायत स्तर और शहरी क्षेत्र में हर वार्ड में सरकारी स्वास्थ्य केंद्र जिसकी सेवाए 24 घण्टे सुलभ हो, स्थापित किए जाने, प्रदेश में सरकारी मेडिकल कॉलेज खोलने, डॉक्टरों और स्वास्थ्यकर्मियो को उचित मानदेय और सुविधाओं की व्यवस्था करने, स्वास्थ्य सेवा में आवश्यक सुधार करने हेतु इसी सत्र में राइट टू हेल्थ बिल को पारित करवाएं। भारत में सत्ता प्रतिष्ठान पूंजीवादी ताकतों की कठपुतली बनी हुई है, इसलिए बिल बनाने वालों ने जनसंघठनों से आपत्तियां व सुझाव लेने के बाद भी जानबूझकर कमियां रखी हैं एवं अब निजी हॉस्पिटल अपनी जिम्मेदारियों से बचने व मनमानी लूट के लिए बिल की राह में रोड़ा लगा रहे हैं, इससे अब मात्र रस्म अदाई के लिए पेश बिल दंतविहीन ही रह जाने का अंदेशा है। सरकार आम जनता के हित को ध्यान में रख कर सभी जन प्रतिनिधि, जन संघठन और नागरिक समूहों के सुझाव को शामिल करके एक सशक्त स्वास्थ्य का अधिकार कानून लागू करे और किसी प्रकार के दबाब में न आये और लोकतंत्र में जनता की भावना को मजबूत करे। सरकार ने अपने घोषणा पत्र में भी ये कानून लागू करने का कह चुकी है तो आप समय आ गया है जनता को किये वादे पूरा करने का। राजस्थान नागरिक मंच और जन आंदोलनो का राष्ट्रीय समन्वय – स्वास्थ्य समूह सरकार की अपेक्षा है कि सरकार इसे एक प्रभावकारी कानून के तौर पर पेश करे जिससे जनता को वाकई लाभ मिल सके।
अनिल गोस्वामी / जयेश जोशी / भारत दोषी/ हेमलता कंसोटिया/ शाहिद मंसूरी राजस्थान नागरिक मंच-अमूल्य निधि/ कैलाश मीना/ राधेश्याम शुक्लावास
जनांदोलनों का राष्ट्रीय समन्वय हेल्थ समूह भारतीय किसान सेना।

https://banswaranews.in/wp-content/uploads/2022/10/1.512-new-1-scaled.jpg

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here