BTP के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य विजयभाई मईडा ने कहा 09 अगस्त विश्व आदिवासी दिवस के दिन ही कांग्रेस सरकार के द्वारा बांसवाड़ा जिले के मानगढ़ पर चुनावी शंखनाद करना कहीं ना कहीं आदिवासीयों के अंतरराष्ट्रीय पर्व को राजनीतिकरण के रूप में रंग देने का काम किया जा रहा है,

0
100
BN banswara news
BN बांसवाड़ा न्यूज़ द्वारा प्रदत्त
blob:https://web.whatsapp.com/36c84f3a-b315-4bd0-96f4-ef3b180d1b66

BN बांसवाड़ा न्यूज़ – भारतीय ट्रायबल पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य विजयभाई मईडा ने प्रेस नोट के माध्यम से कहा कि 09 अगस्त विश्व आदिवासी दिवस के दिन ही कांग्रेस सरकार के द्वारा बांसवाड़ा जिले के मानगढ़ पर चुनावी शंखनाद करना कहीं ना कहीं आदिवासीयों के अंतरराष्ट्रीय पर्व को राजनीतिकरण के रूप में रंग देने का काम किया जा रहा है। यह समाज को अपने मूल संस्कृति, रूढ़ी परंपरा से अलग-थलग करना एवं संवैधानिक अधिकारों के प्रति भ्रमित करने का षड्यंत्र है। राजस्थान सरकार के चुनावी वादे जुमले बनकर रह गए पिछली बार चुनावी घोषणा पत्र में राजस्थान की आठ करोड़ जनता के समने वादे किए चाहे वह किसानों की कर्ज माफी, बेरोजगारी भत्ता, संविदा कर्मियों को स्थाई करना आदि बैरियर बन कर रह गए। बांसवाड़ा जिले में दो मंत्री, एक जनजाति आयोग की उपाध्यक्ष होने के बावजूद ग्रामीण क्षेत्रों की सड़कों की हालत गंभीर है। शिक्षा स्वास्थ्य के क्षेत्र में भौतिक सुविधाओं का अभाव, माइग्रेन का पलायन चरम सीमा पर , जिनका आए दिन आर्थिक मानसिक और शारीरिक शोषण के शिकार हो रहे हैं। पिछले 10 वर्षों से मांग कर रहे शेड्यूल एरिये के बाहर के कार्मिक 2500 की संख्या में गृह जिलों में जाना चाहते हैं उन्हें नहीं भेजकर यहां के प्रशिक्षित बेरोजगारों के संवैधानिक अधिकारों का हनन किया जा रहा है। जनजाति क्षेत्र के हितों को ध्यान में रखते हुए गोविंद गुरु विश्वविद्यालय बांसवाड़ा की स्थापना की गई लेकिन विश्वविद्यालय में एस टी वर्ग का प्रतिनिधित्व नहीं होना तथा भर्तियों में आरक्षण का प्रावधान लागू नहीं करना बैगडोर से भर्तियों की जा रही है। शेड्यूल एरिये के अंतर्गत पिछले कई वर्षों से जनसंख्या के अनुपात में आरक्षण, राज्य की प्रशासनिक सेवाओं में 6.5% आरक्षण, न्यूनतम अंको की बाध्यता हटाने की मांग पर अमल नहीं किया जाना। कांग्रेस की सरकार में आदिवासियों, दलितों और पिछड़े तबके के लोगों पर आए दिन अन्याय अत्याचार को बढ़ावा मिला चाहे काकरी डूंगरी प्रकरण, कार्तिक भील हत्याकांड, जितेंद्र मेघवाल हत्याकांड, डॉक्टर अनिमेष भील हत्याकांड , इंद्र मेघवाल हत्याकांड, जोधपुर दुष्कर्म प्रकरण आदि का आज तक न्याय नहीं मिला कांग्रेस व भाजपा आदिवासियों के हितेषी हैं तो पांचवी छठी अनुसूची, पेसा एक्ट, और भील प्रदेश की मांग का समर्थन करें तथा मानगढ़ को राष्ट्रीय स्मारक घोषित करें व स्टेट हाईवे से जोड़ा जावे क्योंकि यहां पर 4 राज्यों के लोगों का आवागमन होता है ग्रामीण क्षेत्र की सड़कें ठीक नहीं होने से दुर्घटना की संभावना रहती है। बांसवाड़ा को पूर्ववर्ती भाजपा व कांग्रेस की सरकारों ने रेल से जोड़ने का झुनझुना आज तक पकड़ा रखा। आजादी से आज तक भाजपा व कांग्रेस ने बारी बारी से आदिवासियों को वोट बैंक के रूप में इस्तेमाल किया लेकिन यहां का युवा और आम जनता समझ चुकी है जिसका आने वाले विधानसभा चुनाव में करारा जवाब मिलेगा।

https://banswaranews.in/wp-content/uploads/2022/10/1.512-new-1-scaled.jpg

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here