बीजेपी के किरोड़ी लाल मीणा [ बाबा ] का इस्तीफा होगा मंजूर? सरकारी गाड़ी और ऑफिस आना छोड़ा! तो किरोड़ी लाल कब छोड़ेंगे मंत्री पद

0
127
kironilal mina raj
kironilal mina raj
blob:https://web.whatsapp.com/36c84f3a-b315-4bd0-96f4-ef3b180d1b66

जयपुर: राजस्थान में लोकसभा चुनाव संपन्न हो चुके हैं लेकिन कैबिनेट मंत्री किरोड़ी लाल मीणा के इस्तीफे के बयान और सियासत का पारा लगातार चढ़ता जा रहा है। कांग्रेस उन्हें इस्तीफा देने के लिए लगातार उकसा रही है। इस बीच किरोड़ी लाल मीणा को लेकर बड़ा अपडेट सामने आया। किरोड़ी लाल मीणा अपनी सरकारी गाड़ी छोड़ चुके हैं। इसके अलावा 4 जून को परिणाम आने के बाद से अपने विभागीय कार्यालय में नहीं आ रहे। ऐसे में कई सियासी कयास शुरू हो गए हैं। क्या किरोड़ी बाबा अपने वचन की रक्षा के लिए इस्तीफा देने वाले हैं? हालांकि किरोड़ी लाल ने अपना इस्तीफा देने के लिए कोई आधिकारिक घोषणा नहीं की है, फिर भी इस अपडेट के बाद सियासत में हड़कंप मचा हुआ है। ऐसे में इसे बीजेपी के बाबा के इस्तीफे का काउंटडाउन माना जा रहा है और कयास हैं कि वह आने वाले दो दिन में अपना इस्तीफा दे देंगे।

क्या किरोड़ी लाल ने दे दिया अपना इस्तीफा?
लोकसभा चुनाव के दौरान कैबिनेट मंत्री किरोड़ी लाल मीणा का बीजेपी की हार को लेकर दिया गया बयान काफी सुर्खियों में रहा। उन्होंने सात लोकसभा सीटों के चुनाव परिणामों को लेकर जीत की भविष्यवाणी की। यदि बीजेपी इनमें से एक भी सीट हारी, तो वह अपना इस्तीफा देंगे। बताया जा रहा है कि 4 जून के चुनाव परिणाम के बाद मंत्री किरोड़ी लाल की अपने विभाग के प्रति बेरुखी देखने में आई है। चुनाव परिणाम के बाद किरोड़ी लाल मीणा एक दिन भी अपने विभागीय कार्यालय में नहीं आए। इसके अलावा बताया जा रहा है कि उन्होंने अपनी सरकारी गाड़ी को भी छोड़ दिया है। वहीं सवाल खड़े हो रहे हैं कि क्या किरोड़ी बाबा ने अपने वचन की रक्षा के लिए वाकई में इस्तीफा देने का मानस बना लिया है। इसको लेकर राजनीतिक पारा चढ़ता ही जा रहा है।
प्राण जाई पर वचन न जाई…
चुनाव परिणामों के बाद किरोड़ी लाल मीणा के इस्तीफे को लेकर सवाल फिर से उठने लगे। यह सवाल होने लगा कि क्या किरोड़ी लाल मीणा अपने वचन के अनुसार मंत्री पद छोड़ेंगे या नहीं? यदि छोड़ेंगे तो कब? इन चर्चाओं के बीच किरोड़ी लाल मीणा ने सोशल मीडिया मंच एक्स पर रामायण की चौपाई लिखी थी। इसमें लिखा कि ‘रघुकुल रीत सदा चली आई, प्राण जाई पर वचन न जाई’। किरोड़ी लाल मीणा के इस पोस्ट से यही माना जाने लगा कि कि किरोड़ी लाल मीणा अपने वचन पर अडिग हैं और अपना इस्तीफा देंगे।
पीसीसी ने भी बाबा पर कसा तंज
किरोड़ी लाल ने अपने सोशल मीडिया पर रामायण की चौपाई ‘रघुकुल रीत सदा चली आई, प्राण जाए पर वचन न जाए’ लिखकर अपने इस्तीफा देने के संकेत दिए थे। इस चौपाई के माध्यम से किरोड़ी लाल ने कहने की कोशिश है कि उन्होंने जो घोषणा की है वह उसकी पालना करेंगे, लेकिन अभी तक उनके इस्तीफा नहीं देने पर कांग्रेस जमकर हमलावर बनी है। इसको लेकर पीसीसी ने अपने सोशल मीडिया ऑफिशियल अकाउंट से किरोड़ी लाल पर तंज कसते हुए कहा कि ‘बाबा ने कहा ‘रघुकुल रीत’ है मानी, टूटे वचन पर कुर्सी बचाने की ठानी !’ इसके माध्यम से कांग्रेस उन पर हमला कर रही है कि बाबा अब वचन तोड़कर कुर्सी बचाने की सोच रहे हैं।
इस्तीफे को लेकर क्या होगा?
कैबिनेट मंत्री किरोड़ी लाल मीणा की ओर से इस्तीफा देने के बयान को लेकर बड़ा सस्पेंस बन गया है। उनके विभाग में नहीं आने और सरकारी गाड़ी छोड़ने के बाद सियासी कयास और तेज हो गए हैं। ऐसे में कयास शुरू हो गए है कि अब किरोड़ी लाल मीणा के इस्तीफा देने के मामले को लेकर क्या हो सकता है? इधर, राजनीतिक जानकारों का मानना है कि बीजेपी किरोड़ी लाल मीणा के इस्तीफा देने को लेकर राजी नहीं है। बीजेपी चाहती है कि किरोड़ी लाल अपने मंत्री पद पर कायम रहे। ऐसे में माना जा रहा है कि बीजेपी उनके वचन के धर्म संकट से उबारने के लिए एक कोशिश कर सकती है। इसमें बीजेपी उन्हें हार की जिम्मेदारी से मुक्त करने की बात कह कर किरोड़ी लाल को धर्म संकट से उबार सकती है, क्योंकि किरोड़ी लाल ने खुद नैतिकता के आधार पर इन सीटों की हार की जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा देने की बात कही थी। इस्तीफा देने का निर्णय केवल मीणा का है।

https://banswaranews.in/wp-content/uploads/2022/10/1.512-new-1-scaled.jpg

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here